दिल्ली के मैदान में फेंकते फेंकते लपकना ही भूल गए प्रधान-मंत्री नरेंद्र मोदी

दिल्ली के फ़िरोज़शाह कोटला स्टेडियम में आज एक अद्भुत घटना तब घटी जब एक चैरिटी मैच खेलते वक़्त श्री नरेंद्र मोदी फेंकते फेंकते गेंद को लपकना ही भूल गए। दर्शकों और नवजोत सिंह सिद्धू के अनुसार श्री श्री 1008 मोदी जी जब पिच पर आये, तो पूरे मैदान में एक खलबली सी मच गयी। भक्तों में खुशी की लहर दौड़ गई।

एक और कैच छोड़ने के बाद निराश मोदी

बुज़ुर्गों को किया रिटायर्ड हर्ट

गेंदबाज़ी और बल्लेबाजी में ताबड़तोड़ प्रदर्शन करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने डेवलपमेंट का अनोखा नज़ारा पेश किया. पिच पर कदम रखते ही उन्होंने कमान संभाल ली, तथा तत्कालीन कप्तान धोनी के नक्शे कदम पर चल कर सभी बुजुर्ग खिलाड़ियों को वापस भेज दिया। आरडिनेन्स ओवर का इस्तेमाल करते हुए मोदी ने बड़े बड़े फैसले चुटकी बजाने से पहले ले लिए।

रावलपिंडी एक्सप्रेस की दुगुना गति से फेंकना चालू किया

इस रोमांचक मुकाबले मे धोनी, माफ कीजिए मोदी अपने सबसे काबिल खिलाड़ियों के साथ उतरे और बिना किसी सलाह-मशवरे के गेंदबाज़ी छोर पर जा खड़े हुए। फिर क्या था, एक पे एक उन्होंने फेंकी, कोई ऊँची कोई नीची, कोई घूमती हुई तो कोई सीधी। बल्लेबाज़ ढूंढ ही नहीं पा रहे थे मोदी की गेंदों का कोई भी जवाब।

ओवर समाप्त होने के बाद भी मोदी ने फील्डिंग में अपने जलवे दिखाए। दूसरे फील्डरों से बॉल छीन छीन कर विकेटकीपर की ओर फेंकने में मोदी का कोई जवाब ही नहीं था। ऐसा लग रहा था जैसे मोदी अपने फेंकने के दम पर ही विपक्षी टीम की लुटिया डुबो देंगे।

अंततः गेंद फिसल ही गयी मोदी के हाथों से

पर तभी कुछ आश्चर्यजनक हो गया। विपक्षी टीम के एक शातिर बल्लेबाज ने मोदी की दिशा में कैच उठाया और मोदी गेंद को लपकना तो दूर, उसे छू तक नहीं पाये। बल्लेबाज का नाम भारतीय नागरिक बताया जाता है। उसका कहना है की खेल शुरू होने से पहले उसने ये बात गौर की थी कि मोदी जी फेकते लंबी हैं, पर लपक ज़रा भी नहीं पाते।

Via: News that Matters Not

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *